हिंदू धर्म में सप्ताह के सातों दिनों को किसी न किसी देवी – देवता की पूजा के लिए समर्पित किया गया हैं। उसी तरह बुधवार का दिन भगवान श्री गणेश जी को समर्पित हैं। इस दिन भक्त विधि पूर्वक भगवान गणेश जी की पूजा करते हैं और उन्हें शीघ्र प्रसन्न करने के लिए व्रत भी रखते हैं। कहा जाता हैं कि इस दिन गणपति जी की पूजा करने से भक्तों की सभी प्रकार की परेशानियाँ तत्काल ही दूर हो जाती हैं।

गणेशजी की पूजा एवं आराधना बहुत ही मंगलकारी और कल्याणकारी मानी जाती है। उनके ‍भक्त विभिन्न प्रकार से उनकी आराधना करते हैं। अनेक श्लोक, स्तोत्र, जाप द्वारा गणेशजी को प्रसन्न किया जाता है। गणपती जी का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन प्रात: पूर्ण रूप से शुद्ध होकर गणपती जी की पूजा करनी चाहिए।

गणपती स्थापना पूजा विधि PDF Download

गणेश स्थापना पूजन विधि मंत्र सहित PDF

अगर आप भी सुख, शांति और समृद्धि पाना चाहते हैं तो प्रतिदिन गणपति जी का श्रद्धापूर्वक पूजन अवश्य करें। ऐसा करने से भगवान गणेश जी की असिम कृपा होती है। अगर आप उनका पूजन प्रतिदिन नहीं कर सकते तो केवल बुधवार के दिन भी गणेश जी का विधिपूर्वक पूजन करके विशेष लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

Steps of गणेश पूजन विधि मंत्र सहित PDF Download 

1. आवाहन एवं प्रतिष्ठापन

  • आवाहन

सर्वप्रथम, भगवान गणेश की प्रतिमा के सम्मुख आवाहन-मुद्रा दिखाकर, उनका आवाहन करें।

  • प्रतिष्ठापन

आवाहन के पश्चात्, भगवान गणेश की मूर्ति में प्राण-प्रतिष्ठा करें।

2. आसन समर्पण

आवाहन एवं प्रतिष्ठापन के पश्चात्, भगवान गणेश को आसन के लिये पाँच पुष्प अञ्जलि में लेकर अपने सामने छोड़े।

3. पाद्य समर्पण

आसन समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को पाद्य (चरण धोने हेतु जल) समर्पित करें।

4. अर्घ्य समर्पण

पाद्य समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को गन्धमिश्रित अर्घ्य जल समर्पित करें।

5. आचमन

अर्घ्य समर्पण के पश्चात्, आचमन के लिए भगवान गणेश को जल समर्पित करें।

6. स्नान मन्त्र

  • स्नान

आचमन समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को जल से स्नान कराएँ। 

  • पञ्चामृत स्नानम्

जल से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को पञ्चामृत से स्नान कराएँ। 

  • पयः/दूध स्नानम्

पञ्चामृत से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को पयः (दूध) से स्नान कराएँ। 

  • दधि स्नानम्

पयः से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को दही से स्नान कराएँ। 

  • घृत स्नानम्

दही से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को घी से स्नान कराएँ। 

  • मधु स्नानम्

घी से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को शहद से स्नान कराएँ। 

  • शर्करा स्नानम्

शहद से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को शर्करा (शक्कर) से स्नान कराएँ। 

  • सुवासित स्नानम्

शर्करा से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को सुगन्धित तेल से स्नान कराएँ।

  • शुद्धोदक स्नानम्

सुगन्धित तेल से स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को शुद्ध जल से स्नान कराएँ।

7. वस्त्र समर्पण वं उत्तरीय समर्पण

  • वस्त्र समर्पण

शुद्धोदक स्नान के पश्चात्, भगवान गणेश को मोली के रूप में वस्त्र समर्पित करें। 

  • उत्तरीय समर्पण

वस्त्र समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को शरीर के ऊपरी अङ्गो के लिए वस्त्र समर्पित करें।

8. यज्ञोपवीत समर्पण

वस्त्र एवं उत्तरीय समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को यज्ञोपवीत समर्पित करें।

9. गन्ध

यज्ञोपवीत समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को सुगन्धित द्रव्य समर्पित करें।

10. अक्षत

गन्ध समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को अक्षत चढ़ायें।

11. पुष्प माला, शमी पत्र, दुर्वाङ्कुर, सिन्दूर

  • पुष्प माला

अक्षत समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को पुष्प माला चढ़ायें। 

  • शमी पत्र

पुष्प माला समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को शमी पत्र चढ़ायें। 

  • दुर्वाङ्कुर

शमी पत्र समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को दुर्वाङ्कुर (तीन अथवा पाँच पत्र वाला दूर्वा) चढ़ायें। 

सिन्दूर

दुर्वाङ्कुर समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को तिलक के लिये सिन्दूर चढ़ायें।

12. धूप

सिन्दूर समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को धूप समर्पित करें।

13. दीप समर्पण

धूप समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को दीप समर्पित करें।

14. नैवेद्य एवं करोद्वर्तन

  • नैवेद्य निवेदन

दीप समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को नैवेद्य समर्पित करें।

  • चन्दन करोद्वर्तन

नैवेद्य समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को चन्दन युक्त जल समर्पित करें

15. ताम्बूल, नारिकेल एवं दक्षिणा समर्पण

  • ताम्बूल समर्पण

चन्दन करोद्वर्तन के पश्चात्, भगवान गणेश को ताम्बूल (पान, सुपारी के साथ) समर्पित करें। 

  • नारिकेल समर्पण

ताम्बूल समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को नारियल समर्पित करें।

  • दक्षिणा समर्पण

नारिकेल समर्पण के पश्चात्, भगवान गणेश को दक्षिणा समर्पित करें।

16. नीराजन एवं विसर्जन

  • नीराजन/आरती

भगवान गणेश की आरती करें।

  • पुष्पाञ्जलि अर्पण

भगवान गणेश को पुष्पाञ्जलि समर्पित करें।

  • प्रदक्षिणा

भगवान गणेश की प्रदक्षिणा (बाएँ से दाएँ ओर की परिक्रमा) के साथ श्रीगणेश को फूल समर्पित करें।

  • विसर्जन

दाहिने हाथ में अक्षत, पुष्प लेकर विसर्जन करें।

How to download Ganesh Sthapana Puja Vidhi PDF ?

डाउनलोड करने के लिए नीचे दिए हुए लिंक पर क्लिक करें।

Download Ganpati Sthapana Puja Vidhi in Hindi PDF

By Lakshmi

Lakshmi is a professional content writer who write quality content in multiple languages. She is one of our most prestigious employee and working with us from 5 years.

Leave a Reply

Your email address will not be published.